अगर आप चाहते है की बच्चे को स्मार्टफोन की लत तो आप भी बन जाइए स्मार्ट पेरेंट्स,

इंटरनेट और स्मार्टफोन की इस दुनिया में आजकल के बच्चे कुछ ज्यादा ही स्मार्ट हो रहे है | जहाँ बच्चे पहले बोलना चलना सीखते थे वही आजकल के बच्चे स्मार्टफोन चलाना सीखते है 

हाइटेक के  जमाने में बच्चों को स्मार्टफोन से दूर रखना  होता जा रहा है मुश्किल

वैसे बोला जाए स्मार्टफोन के जैसे ही स्मार्ट हो गए है |अगर माता पिता इनसब चीज़ों पे कंट्रोल करना चाहते है तो उनको भी स्मार्ट बनना पड़ेगा |  कैसे? आई जानते है |हाइटेक होते जमाने में बच्चों को स्मार्टफोन से दूर रखना मुश्किल होता जा रहा है। एक नए शोध के अनुसार बच्चे किसी भी चीज़ को डिजिटली ज्यादा समझते है  |

जिससे उसकी  समझ जल्दी और तेजी से विकसित होती है। बच्चे स्मार्टफोन, टैबलेट्स या लैपटॉप पर आखिर इतनी देर तक क्या करते रहते हैं, यह बात हर माता-पिता के लिए चिंता का विषय है। परेशानी तब और बढ़ जाती है, जब वे चाहकर भी बच्चे को नियंत्रित नहीं कर पातहै  । क्यूंकि वो स्मार्टफोन की तरह स्मार्ट नहीं है | अगर आप भी इसी समस्या से जूझ रही हैं तो कुछ एप की मदद से बच्चों के स्क्रीन टाइम को नियंत्रित कर सकती हैं। अब आप सोंच रहे होंगे क्या है स्क्रीन टाइम | चलिये जानते है |

पेरेंटल कंट्रोल बोर्ड

यह एक एप है जो गूगल  प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। इस एप के जरिए ये पता लगाया जा सकता है  कि आपका बच्चा स्मार्टफोन से या आइपैड से किसे कॉल कर रहा है? किससे कितनी देर बात कर रहा है या क्या मैसेज भेज रहा है? साथ हीये  भी पता चलता है कि ये सोशल साइट्स की दुनिया में कितना एक्टिव है |  इस एप की क्वालिटी यही ख़त्म नहीं होती ये, आप जिन लोगों से अपने बच्चे को दूर रखना चाहते  हैं, उन लोगों के फोन नंबर और ईमेल एड्रेस को भी इस एप के माध्यम से ब्लॉक किया जा सकता  हैं। ताकि बच्चे उनसे कांटेक्ट न कर पाएं |  बच्चे को उन सबसे कॉल करने, मैसेज भेजने और सोशल मीडिया अकाउंट पर जुड़ने की अनुमति नहीं होगी।

फैमिली लिंक

इस एप्लिकेशन माध्यम से अपने बच्चों के लिए कुछ बुनियादी डिजिटल नियम तय किए जा सकते है |  जहाँ आपको ये  पता चल सकता है की एक सप्ताह या माह में आपका बच्चा  कितने घंटे इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहा  है  या आप तय भी कर सकती ह की कितनी देर वो सोशल मीडिया पे एक्टिव रहे । वह समय सीमा पूरी होते ही इंटरनेट ब्लॉक हो जाएगा। साथ ही इस एप की मदद से स्मार्टफोन के लोकेशन के आधार पर आप यह भी जान पाएंगी कि बच्चा उस वक्त कहां था और क्या कर रहा था |

किड्स जोन

बच्चा यदि जरूरत से ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करता है तो इस एप्लिकेशन से उसको भी ब्लॉक किया जा सकता है।

यू-ट्यूब किड्स

कोई बच्चा यदि  पॉर्न कंटेंट सर्च भी करता है तो यह एप उसे कुछ भी सर्च करने नहीं देगा व बच्चे को कुछ और सर्च करने को कहेगा। आप इस एप के माध्यम से बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल करने का टाइम भी आसानी से निर्धारित कर सकती हैं।

क्यूस्टोडियो पेरेंटल कंट्रोल

यह आज दुनिया का सबसे मजबूत और आसान पेरेंटल कंट्रोल  बना हुआ है । इसमें फ्री वेब फिल्टरिंग और बच्चों के लिए इंटरनेट इस्तेमाल की टाइम लिमिट तय करने की सुविधा है। इसके साथ ही आप  जुआ, अनुचित साइट्स, कॉल, टेक्स्ट मैसेज और किसी विशेष फोन नंबर को इस एप के माध्यम से बच्चे के स्मार्टफोन में ब्लॉक कर सकती हैं। यही नहीं, आप कहीं से भी इसके वेब पोर्टल पर अपने बच्चे की सारी एक्टिविटी पर नजर रख सकते है बिना उसेर्स की जानकारी के। अगर बच्चा कोई ऐसी सामग्री देख रहा है, जो उसके उम्र के अनुरूप नहीं है, तो यह एप आपको इसकी सूचना भी देगा।

सेफ ब्राउजिंग पेरेंटल कंट्रोल

इसलिए आप इस एप के माध्यम आपके बच्चे नेट के मदद  चीज़ें देख पाएंगे  जो उसके उम्र के अनुकूल है। प्ले स्टोर पर इसके अलावा भी कुछ एप हैं, जिनके माध्यम से आप बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल पर अपने नियम लागू कर सकती हैं।

इस तरह की एप्लिकेशन को इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले आप स्मार्टफोन में प्लेस्टोर से डाउनलोड करें और जीमेल से अकाउंट में साइन-इन करें। अगर आप चाहते है की बच्चे को इस  भनक न लगे तो बच्चे का भी एक जीमेल अकाउंट बनाएं। और जो आपके  फोन में जेनरेट किया गया कोड है वो बच्चे के फोन में भी डालें। एक बार दोनों फोन जुड़ गए तो आप तय कर सकती हैं कि बच्चा कितनी देर स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर सकता है। ।

Posted in Digital Marketing, SMnext Blog, Social Media Marketing, Social Media Marketing in Patna and tagged , , , , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published.